निजी अस्पतालों को बाहर चस्पा करनी होगी फीवर क्लीनिक की जानकारी

मध्यप्रदेश

भोपाल। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन का ध्यान अब पूरी तरह से फीवर क्लीनिक पर मरीजों को लाने पर लगा है। रविवार को कलेक्टर अविनाश लवानिया ने कलेक्टोरेट में सभी क्षेत्रों के एसडीएम के साथ कोरोना को लेकर रिव्यू किया। अब तक की स्थिति पर संतोष जाहिर करते हुए कलेक्टर अविनाश लवानिया  ने कहा कि शहर में जहां स्क्रीनिंग और सैम्पलिंग की जरूरत है, उसे लगातार जारी रखा जाए। ज्यादा से ज्यादा मरीजों को फीवर क्लीनिक की तरफ डायवर्ट करें। वहां पर ही उनकी सैम्पलिंग की व्यवस्था की जाए। इससे बाकी इलाजों की राह भी धीेरे-धीरे खुलना शुरू होगी और कोरोना के हल्के लक्षण, सर्दी जुखाम और बुखार के पेशेंट यहां शिफ्ट हो जाएंगे। कलेक्टर ने बरसात को देखते हुए अभी से एसडीएम को निर्देश दिए हैं कि वे लगातार अपने क्षेत्रों के डॉक्टरों से चर्चा करते रहे और मरीजों का रिकॉर्ड मेंटेन कर उनको फीवर क्लीनिक पर भेजें। सभी नर्सिंग होम संचालकों से कहा है कि वे अपने नर्सिंग होम के बाहर सभी शासकीय फीवर क्लीनिक की जानकारी चस्पा करें। इसके लिए पोस्टर, बैनर की व्यवस्था प्रशासन करेगा।

Back to Top