van vihar bhopal

गंभीर रूप से घायल नर तेंदुआ हुआ पूरी तरह ठीक,डॉ. अतुल गुप्ता समेत लोगों ने किया सराहनीय काम

मध्यप्रदेश

भोपाल। वन विहार राष्ट्रीय उद्यान में 18 जनवरी 2020 को देर रात वन मंडल रायसेन के दीवानगंज क्षेत्र की बीट गीदगढ़ में एक नर तेंदुआ जो कि तारों से बुरी तरह फंस गया था। बुरी तरह फंस कर तेंदुआ गंभीर रूप से घायल हो गया था। गंभीर रूप से घायल नर तेंदुआ की जानकारी जब वन विहार भोपाल के अधिकारियों को लगी तो डॉक्टर अतुल गुप्ता एवं वन विहार के सहयोगी दल द्वारा तेंदुआ को रेस्क्यू कर वन विहार भोपाल लाया गया था।

घाव काफी गहरे हो गए थे
भोपाल लाते समय इसकी हालत अत्यंत गंभीर थी तथा इसकी छाती एवं पेट पर चारों ओर पूरी गोलाई में कंधे के नीचे अत्यंत गहरे घाव थे जो कि क्लच वायर के कसे होने के कारण काफी गहरे हो गए थे।

तेंदुआ का उपचार किया गया
वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि तेंदुए द्वारा तारों में फस जाने पर निकलने के पुरजोर प्रयास के कारण अत्यंत गंभीर हो गए थे। इस नर तेंदुए को वन विहार के वन्य प्राणी चिकित्सालय के इनडोर वार्ड में रखा गया। डॉ अतुल गुप्ता एवं उनके सहयोगी दल द्वारा गंभीर रूप से घायल तेंदुआ का उपचार किया गया।


तेंदुआ पूरी तरह से ठीक हो गया
डॉ अतुल गुप्ता ने बताया कि तेंदुआ के घाव इतने गंभीर थे कि शुरू के 13 दिन तक तेंदुआ ने किसी प्रकार कोई भोजन ग्रहण नहीं किया इसके बावजूद अतुल गुप्ता एवं सहयोग द्वारा सेलाईन तथा पानी के दम पर उसे जीवित रखा गया। उपचार के दौरान सीसीटीवी के माध्यम से तेंदुआ की निगरानी रखी गई। इस कठिन परिस्थिति में भी उसको दो बार बेहोश कर शल्यक्रिया करानी पड़ी। लंबे उपचार एवं देखभाल के परिणाम के बाद तेंदुआ पूरी तरह से ठीक हो गया।


9.30 मिनट पर सुराक्षित छोड दिया तेेंदुआ
संचालक वन विहार राष्ट्रीय उद्यान द्वारा तेंदुआ के स्वस्थ हो जाने पर से प्राकृतिक में छोड़ने के अनुरोध पर प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्य प्राणी मध्य प्रदेश द्वारा इस नर तेंदुए को इसके प्राकृतिक संरक्षण आवास में छोड़ने के निर्देश प्राप्त हुए। आज 20 मई को लगभग 4 माह पहले तेंदुए को स्वस्थ एवं सुरक्षित हालत में अधीक्षक रातापानी अभराण्य करते हुए पांच लोगों कही मौजूदगी में तेंदुआ को बरखेड़ा क्षेत्र पांझिर बीट के कक्ष क्र आर एफ 591 में सुबह 9.30 मिनट पर
सुराक्षित छोड दिया गया।डॉ अतुल गुप्ता और उनके सहयोगी द्वारा तेंदुए के इलाज में दिन रात किए गए प्रयास को सभी ने सराहा है।

Back to Top